हिमाचली खाएंगे घराटों का आटा

    Author: NARESH THAKUR Genre: »
    Rating


    हिमाचल प्रदेश के पुराने घराटों को पुनर्जीवित करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा चलाई गई योजना को अंजाम तक पहुंचाने का काम चल रहा है। राज्य के सात जिलों के लोगों ने घराटों को पुनर्जीवित कर अपना कारोबार शुरू करने की इच्छा जताई है। सरकारी एजेंसी हिम ऊर्जा को इसके लिए 50 प्रस्ताव इन जिलों से आए हैं, जिनके बारे में लोगों से विस्तृत चर्चा की जा रही है। ये घराट शुरू होते हैं तो यहां के लोगों को फिर घराट पर पिसे हुए आटे का स्वाद मिल सकेगा। इन घराटों पर न केवल पिसाई का काम दोबारा से शुरू किया जाएगा, बल्कि अपनी जरूरत के लिए यहां पर बिजली का उत्पादन भी हो सकेगा। घराट में एक किलोवाट से लेकर पांच किलोवाट तक बिजली का उत्पादन किया जा सकता है। पहाड़ी राज्य में घराटों को पुनर्जीवित करने के लिए केंद्र सरकार ने कुछ समय पहले ही महत्त्वपूर्ण प्रोजेक्ट को मंजूरी प्रदान की थी। केंद्रीय नव एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने प्रदेश के लिए 50 घराट मंजूर किए थे, जिसके लिए हिम ऊर्जा ने लोगों से आवेदन मांगे थे। इस पर उसे 50 आवेदन फील्ड से पहुंचे हैं। इस प्रोजेक्ट के तहत नए घराट लगाने या फिर पुराने घराटों को ही ठीक करने के लिए आर्थिक मदद मिलेगी। 50 हजार रुपए से लेकर डेढ़ लाख रुपए तक की मदद एक घराट के लिए मिलेगी। हिमाचल प्रदेश के लिए इस प्रोजेक्ट के तहत करीब 82 लाख रुपए की कुल राशि स्वीकृत हुई है, जिसमें से पहली किस्त के रूप में 10 लाख रुपए की राशि प्रदेश को भेजी जा चुकी है।
    यहां से आए प्रस्ताव
    हिम ऊर्जा को मिले 50 प्रस्तावों में से चंबा जिला के सबसे अधिक 14 प्रस्ताव हैं। इसके अलावा कुल्लू जिला से छह, मंडी जिला से 12, शिमला से सात, लाहुल-स्पीति से आठ, सोलन से एक और कांगड़ा से दो प्रस्ताव आए हैं।
    source: divyahimachal.com

    Leave a Reply

    Total Pageviews

    मेरा ब्लॉग अब सुरक्षित है